6 Sep 2012

बस यूँ ही-६


मुझे कितनी मुहोब्बत है ;बता पाऊँ तुम्हे कैसे ,

भला मै खवाब इस दिल के दिखा पाऊँ तुम्हे कैसे ,

मेरी आँखों की पलकों में ; तेरी तस्वीर है साजन ,

मैं आँखें बंद करके भी भुला पाऊँ तुम्हे कैसे ||
.
@!</\$}{
.

No comments:

Post a Comment