11 Nov 2012

दीपावली - एक दिया ऐसा हो


सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं 
और एक उम्मीद -


एक दिया ऐसा भी हो , जो

भीतर तलक प्रकाश करे ,

एक दिया मुर्दा जीवन में ,

फिर आकर कुछ श्वास भरे | 


एक दिया सादा हो इतना ,

जैसे साधु का जीवन ,

एक दिया इतना सुन्दर हो ,

जैसे देवों का उपवन | 


एक दिया जो भेद मिटाए ,

क्या तेरा क्या मेरा है ,

एक दिया जो याद दिलाये ,

हर रात के बाद सवेरा है | 


एक दिया उनकी खातिर हो ,

जिनके घर में दिया नहीं ,

एक दिया उन बेचारों का ,

जिनको घर ही दिया नहीं | 


एक दिया सीमा के रक्षक ,

अपने वीर जवानों का ,

एक दिया मानवता-रक्षक ,

चंद बचे इंसानों का | 


एक दिया विश्वास दे उनको ,

जिनकी हिम्मत टूट गयी ,

एक दिया उस राह में भी हो ,

जो कल पीछे छूट गयी | 


एक दिया जो अंधकार का ,

जड़ के साथ विनाश करे ,

एक दिया ऐसा भी हो , जो

भीतर तलक प्रकाश करे ||
.
@!</\$}{
.

9 comments:

  1. वाह!!सबके लिए हो एक दिया...रौशन जमीं-आकाश रहे
    दीपावली की शुभकामनाएँ!!!

    ReplyDelete
  2. शुभकामनाएँ...सबके दिये प्रज्वलित रहें...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति
    मन के सुन्दर दीप जलाओ******प्रेम रस मे भीग भीग जाओ******हर चेहरे पर नूर खिलाओ******किसी की मासूमियत बचाओ******प्रेम की इक अलख जगाओ******बस यूँ सब दीवाली मनाओ

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत मन के भाव ...

    धनतेरस और दीपावली की शुभकामनाएँ


    ReplyDelete
  5. सोहन लाल द्विवेदी जी का एगो कबिता पढ़े थे बच्चा में.. अब त लाइनो याद नहीं रहता है.. "वन्दना के इन स्वरों में एक स्वर मेरा मिला लो!!" आज तुमरा कबिता में सबके नाम का दीवा बारने का बात सुनकर मन गदगद हो गया.. इस दीवाली पर परमात्मा से एही प्रार्थना है कि तुमरा प्रार्थना सुन लें.. मगर परमात्मा का हर बन्दा एही बात सोचने लगे तब्बे जाकर दीवाली असली दीवाली हो पाएगा!!
    बहुत सुन्दर कबिता!

    ReplyDelete
  6. भीतर के प्रकाश वाला दिया बहुत आवश्यक हो गया है। मंगलकामनायें।

    ReplyDelete
  7. इस दीवाली ... यह मंगलकामना पूर्ण हो ...यही शुभकामना है
    दीप पर्व की अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. thanks for sharing..

    ReplyDelete